संस्कृत की पाठशाला का अनोखा स्टूडेंट, वेद-शास्त्रों की शिक्षा लेने आता है तोता।

संस्कृत की पाठशाला का अनोखा स्टूडेंट, वेद-शास्त्रों की शिक्षा लेने आता है तोता।

मंदसौर : जिले के पशुपतिनाथ मंदिर प्रबंध समिति द्वारा संचालित संस्कृत पाठशाला में हर रोज एक तोता पाठ पठने आता है. यह जानकर आपको हैरानी जरूर होगी, लेकिन यह सच है. इस अनोखी पाठशाला में बटुकों के साथ तोता वेद और शास्त्रों की शिक्षा ले रहा है. संस्कृत पाठशाला में अध्यापन के दौरान अध्यापक से लेकर बटुकों के मंत्रोच्चारण को यह तोता काफी ध्यान से सुनता है. तोता समय का काफी पाबंद है. हर रोज कक्षा के समय वह बटुकों की तरह समय पर पहुंच जाता है. इस दौरान तोता पूरे समय संस्कृत में होने वाले मंत्रोच्चारण को सुनता रहता है.

*ढाई-तीन महीने से कक्षा में पहुंच रहा तोता*..

मंदसौर के पशुपतिनाथ मंदिर की संस्कृत पाठशाला में पिछले ढाई से तीन महीने से यह तोता बटुकों के साथ वेद और मंत्रों की शिक्षा लेने पहुंच रहा है. अब तोते की यह दिनचर्या भी बन गई है. संस्कृत पाठशाला में ही वह दाना-पानी भी लेता है. यह तोता अब मानो संस्कृत पाठशाला का हिस्सा बन चुका है. सुबह आता है और दोपहर में यहां से उड़ जाता है. इसके बाद तोता शाम को भी संस्कृत पाठशाला में कुछ घंटे के लिए पहुंचता है.

इस बारे में संस्कृत अध्यापक विष्णु प्रसाद ज्ञानी ने बताया कि दो से तीन महीने हो गए हैं, यह तोता प्रतिदिन यहां आता है. वह कहां से आता है, और कहां जाता है किसी को कुछ नहीं पता. तोता पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में भी नहीं रहता, लेकिन हर दिन की सुबह कक्षा लगने के साथ वह पहुंच जाता है.

*कक्षा के दौरान पहले भी आते थे जीव-जंतु*..

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब पाठशाला में जीव-जंतु पहुंचे हों. पाठशाला के संस्कृत अध्यापक विष्णु प्रसाद ज्ञानी बताते हैं कि इस परिसर में पेड़ों के बीच कक्षा का संचालन होता है, इस दौरान पहले भी कई बार जीव-जंतु आ जाते थे, पहले नाग-नागिन का जोड़ा घंटों फन फैलाए बैठा रहता था, इसके बाद एक खरगोश पाठशाला के बीच आ जाया करता था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *