अमृत महोत्सव-महारानी लक्ष्मी बाई ‘मनु’ का 186 वां जन्मोत्सव उत्साह के साथ मनाया गया

स्वतंत्रता दिवस के 75वें वर्ष को यादगार बनाने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव में बुधवार को काशी की वीरांगना बेटी महारानी लक्ष्मी बाई ‘मनु’ का 186 वां जन्मोत्सव उत्साह के साथ मनाया गया, सुबह विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने वीरांगना बेटी की जन्मस्थली भदैनी (अस्सी) स्मारक स्थल जाकर उनके विशाल प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित किया। राष्ट्र सेविका समिति (आरएसएस की महिला इकाई) काशी प्रांत और महारानी लक्ष्मीबाई सेवा न्यास की सदस्यों ने स्मारक स्थल पहुंच कर वीरांगना के शौर्य को नमन कर उनके मूर्ति पर श्रद्धा सुमन अर्पित किया। कार्यक्रम में शामिल राष्ट्र सेविका समिति की स्वयंसेविका गोयनका महाविद्वयालय से पूर्ण गणवेश में पथ संचलन कर शोभायात्रा के साथ स्मारक स्थल पर पहुंची। इसमेंं महारानी लक्ष्मी बाई बनी निजी विद्यालय की कक्षा आठ की छात्रा आस्था आकर्षण का केन्द्र बनी रही। अस्सी स्थित गोयनका संस्कृत महाविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सुश्री शशि बघेल , विशिष्ट अतिथि नम्रता मिश्र ने महारानी के जीवन संघर्ष को बताया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में महारानी के जीवन पर आधारित नृत्य नाटिका में मनु की वीरगाथा बताई गई। 10 प्रमुख विद्यालयों की छात्राओं ने विभिन्न रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया। जन्मोत्सव के अवसर पर पर्यावरण संरक्षण का प्रतीक इको फ्रेंडली झोला, तुलसी का पौधा स्मृति उपहार दिया गया। राष्ट्र सेविका समिति की 50 बहनों का इस कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा।
कार्यक्रम का सफल संचालन ममता बरनवाल ने किया।
अमृत महोत्सव उद्बोधन एडवोकेट राजेन्द्र प्रताप पांडेय प्रधान न्यासी जी ने दिया, न्यासी मीना चौबे, मंत्री रंजना श्रीवास्तव, सदस्य कविता मालवीय, अंजू सिंह सहित निर्मला सिंह पटेल महिला मोर्चा, मंजू द्विवेदी, नमिता सिंह दिव्यांग प्रकोष्ठ, कुमकुम त्रिपाठी, बैदेही जी, पद्मजा जी, नेहा दुबे, प्रियांशु, संस्कृता, नीतू चतुर्वेदी, आदर्श शिशु मंदिर और अतुलानन्द विद्यालय की अध्यापिकाओं ने भी कार्यक्रम में सहभाग किया। धन्यवाद ज्ञापन प्रान्त बौद्धिक प्रमुख ड़ॉ रंजना श्रीवास्तव ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *