विश्व वन्य जीव संरक्षण दिवस पर हुए कार्यक्रम।

विश्व वन्य जीव संरक्षण दिवस
वन्य जीव संरक्षण जागरूकता बढ़ाने का अवसर ।
समाधान विकास समिति विपनेट क्लब के तत्वाधान में आज कम्पोजिट विद्यालय नखासा, नगर क्षेत्र में विश्व वन्यजीव संरक्षण दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में शिक्षिकाओं साजिया आरिफ व मिथलेश ने प्रतिभागियों को बताया कि हर वर्ष 4 दिसंबर को विश्व वन्यजीव संरक्षण दिवस मनाते हैं। आज का दिन वन्यजीवों की लुप्तप्राय प्रजातियों के बारे में जागरूकता बढ़ाता है। वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए विभिन्न अभियान चलाए जाते हैं, संकल्प लिया जाते हैं 1 वन्य क्षेत्रों में मानव के अतिक्रमण, जानवरों के अवैध शिकार के कारण वन्यजीवों का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। बढ़ते प्रदूषण से भी कई समुद्री जीव जंतु लुप्त हो चुके हैं। जावन गैंडा, हिम तेंदुआ, हाक्सबिल कछुआ, साओला, पर्वतीय गोरिल्ला, ध्रुवीय भालू विलुप्त हो रहे हैं। वन्य जीवों के शिकार पर दंड का प्रावधान है तथा भारत में कई प्रमुख व्यक्तित्व अवैध शिकार के कारण न्यायालय में कार्रवाई का सामना कर रहे हैं
समन्वयक लक्ष्मीकांत शर्मा ने बताया कि विश्व वन्यजीव दिवस 2021 की थीम है, वन और आजीविका, सतत लोग और ग्रह ।आज का दिन पारिस्थितिक तंत्रीय सेवाओं, जंगली प्रजातियों के संरक्षण, तथा सतत आजीविका हेतु वनों के महत्व को जन-जन को बताने का दिन है ।इस अवसर पर चित्रकला और स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें उच्च प्राथमिक विद्यालय अशरफ खान की निदा, फारिया, ओम गुप्ता तथा कमपोजिट विद्यालय नकाशा की आरिफ, देव और विशाल ने श्रेष्ठता दर्शाई। इन्हें प्रशस्ति पत्र और पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम से प्राकृतिक संसाधन जागरूकता के क्लब के प्रयासों को गति मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *