Home Newsbeat निशक्त जनसेवा संस्थान के मासिक चिकित्सा कैंप में भीषण गर्मी के बावजूद आये 300 से ऊपर मरीज ।

निशक्त जनसेवा संस्थान के मासिक चिकित्सा कैंप में भीषण गर्मी के बावजूद आये 300 से ऊपर मरीज ।

0
Spread the love

निशक्त जनसेवा संस्थान के मासिक चिकित्सा कैंप में भीषण गर्मी के बावजूद आये 300 से ऊपर मरीज ।
पीलीभीत:आज दिनांक 12 मई 2024 को वर्षों से चला आ रहा निशक्त जन सेवा संस्थान का मासिक चिकित्सा शिविर स्थानीय अंकुर राइस मिल में संपन्न हुआ। आज के शिविर में करीब 350 मरीजों की जांच कर उन्हें चश्मे दवाएं दी गयीं। इसके बाद मोतियाबिंद के मरीजों को बस से रुहेलखण्ड मेडिकल कॉलेज ऑपरेशन के लिए भेजा गया।

आज के शिविर में 150 मरीजों को चश्मा दिए गए। दो मरीजों ने व्हीलचेयर के लिए तो कान के सुनने की मशीन के लिए पांच मरीजों ने पंजीकरण कराया।
अध्यक्ष अमृतलाल ने बताया कि प्रतिमाह शिविर में आने वाले मोतियाबिंद के मरीजों को ऑपरेशन के लिए रोहिलखंड मेडिकल कॉलेज बरेली भेजा जाता है इस बार भी अच्छी संख्या में ऑपरेशन के लिए भेजा गया है।
इस बार कैंप में पथरी के बिना ऑपरेशन के इलाज के बैनर भी लगाए गए थे जिनको दलहन को लोगों कि भीड़ लगी रही। नॉएडा के नेचुरपैथ डॉ भनोट ने एक ऐसी देसी दवा जड़ी बूटीयों से बनाई जिसके सेवन से कुछ ही समय में शरीर के किसी भी भाग कि पथरी बिना ऑपरेशन के गल कर निकल जाती है। लोगों में इस दवा के बारे में जानने की लोगों में विशेष उत्सुकता दिखाई दी।
आज के शिविर में संस्था के सचिव अनिल कमल सह सचिव डॉ प्रेम सागर शर्मा , कामिल खाँ सदस्य नगर पंचायत जहानाबाद,संस्था के अन्य सेवादारों सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।
निशक्त जन सेवा संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष अमृतलाल ने सभी अतिथियों चिकित्सकों वह सेवादारों का आभार व्यक्त किया साथ ही यह भी बताया कि जल्द ही विकलांगों के लिए बड़ी संख्या में आवश्यक उपकरणों का निशुल्क वितरण कराया जाएगा इसलिए जितने भी जरूरतमंद दिव्यांगजन है वह अपना पंजीकरण संस्था के पास निश्चित रूप से करा दें पंजीकरण के लिए आधार कार्ड की छाया प्रति और एक फोटोग्राफ आवश्यक है। अमृतलाल ने यह भी बताया कि शासन के निर्देशों के अनुसार दिव्यांग जनों को निशुल्क उपकरण प्राप्त करने के लिए अपने दिव्यांग प्रमाण पत्र की छाया प्रति जमा करना अनिवार्य है।

About The Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here